Kissing Mother Earth 2018-Cricket Academy

giri cricket academy

किसकी आत्मा पेड़ काटने को राजी नहीं होती : प्रहलाद गुंजल

संयुक्त परिवार के स्थान पर वसुधैव कुटुम्बकम की भावना होनी चाहिए : प्रहलाद गुंजल

करोड़ो रूपए ले आओगें ऑक्सीजन कहा से लाओगे : डॉ. गीता दाधीच

डॉ. एल.के.दाधीच की स्मृति में किया पौधारोपण |

कोटा | 21 अप्रैल 2018 | सोसाइटी हैज ईव इंटरनेशनल चैरिटेबल ट्रस्ट के द्वारा विश्व पृथ्वी दिवस के उपलक्ष में प्रारंभ हुए‘किसिंग मदर अर्थ’ अभियान के तहत आज गिरि क्रिकेट अकादमी पर ‘किसिंग मदर अर्थ’ कार्यक्रम आयोजित किया गया जिसके मुख्य अतिथि कोटा उत्तर के विधायक प्रहलाद गुंजल रहे | अध्यक्षता डॉ. गीता दाधीच एवं विशिष्ठ अतिथि नयापुरा विद्यालय की पूर्व प्राचार्य सितारा देवी रही | मुख्य अतिथि प्रहलाद गुंजल ने पर्यावरण के महत्त्व को बताते हुए नीम, पीपल, बरगद के पेड़ों का महत्व बताया | उन्होंने कहा की हमारी संस्कृति हजारों वर्षो पूर्व से संरक्षण का सन्देश दे रही है | धरती को माँ पूरे विश्व में केवल भारत में समझा जाता है लेकिन मानव अपनी लालसा के कारण हमारी धरती माता का सत्यानाश करता जा रहा है और धरती की दुर्दशा नरक के समान कर दी है | यदि कोई  हाई वे बन रहा हो और किसी आम इंसान को कहा जाये की पेड़ काटना है तो उसकी आत्मा पेड़ काटने से कापती है | डॉ. गीता दाधीच ने गीत के माध्यम से उपस्थित लोगो को ऑक्सीजन और पेड़ लगाने की वर्तमान में वृहद आवश्यकता पर जोर दिया | प्रोजेक्ट डायरेक्टर निधि प्रजापति ने कहा की धरती हमारी माता का श्रृंगार उसके पेड़ पौधे और फूल और हरी भरी जमीन है ये उसके वस्त्र है लेकिन हम अपने स्वार्थ के लिए धरती माँ को निर्वस्त्र कर देते है | जीवन के लिए आवश्यक पांच तत्व जल, पृथ्वी, अग्नि, वायु, आकाश में से सबसे अधिक उपयोगी धरती ही है क्युकी इसके बिना जीवन संभव ही नहीं | धरती हमारा बोझ जनम से लेकर मृत्यु तक उठती है | अत: हमारा कर्तव्य बनता है की हम इसके प्रति कृतज्ञ रहे | इस अवसर पर डॉ. एल.के.दाधीच की स्मृति में बेलपत्र का पौधा भी लगाया | पौधारोपण स्काउट एंड गाइड के संभागीय सचिव श्यज्ञ दत्त हाडा ने पर्यावरण को शुद्ध, स्वच्छ एवं सुन्दर रखने की शपथ दिलवाई | इस अवसर पर जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के अधिवक्ता जगदीश शर्मा, वीमेन वेलफेयर आर्गेनाइजेशन ऑफ वर्ल्ड की राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतू मेहता, सांस्कृतिक सचिव शोभा कँवर, सोनिका गिरि, यूनी कल्चर ट्रस्ट ऑफ इंडिया के संरक्षक दिलावर खान, नितेश पारीक, सुरेन्द्र सुमन, इलियास खान, महावीर सिंह, सोसाइटी हैज ईव इंटरनेशनल चैरिटेबल ट्रस्ट की ज्योति भदोरिया, आरजू खान, सिद्धि भटनागर, हनी सिंह, मनीषा वर्मा, साँची आदि सदस्य उपस्थित रहे  | ‘किसिंग मदर अर्थ’ प्रतियोगिता के अंतर्गत अब तक 100 प्रविष्ठियां प्राप्त हो चुकी है कुछ प्रविष्ठियां सामुहिक रूप से जिसका दायरा अब कोटा की सीमा को लाँघ कर पूरे देश में फैल चुका है | प्रतियोगिता में भाग लेना का अंतिम दिन है  |